Chhattisgarh Newsअच्छी पहलआज खासछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ न्यूजरायपुर
Trending

छत्तीसगढ़ में 13 ट्रांसजेंडर बने पुलिस आरक्षक, CM बघेल और मंत्री भेंड़िया ने दी बधाई

छत्तीसगढ़ में तृतीय लिंग समुदाय के 15 उम्मीदवार पुलिस आरक्षक बनेंगे। मुख्यमंत्री बघेल और समाज कल्याण मंत्री भेंड़िया ने उन्हें बधाई दी है। बता दें कि समाज कल्याण विभाग तृतीय लिंग समुदाय को समाज की मुख्य धारा में लाने की कोशिश कर रहा है। जिसने परीक्षार्थियों के निःशुल्क कोंचिग की व्यवस्था की।

www.media24media.com

रायपुर रेंज पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा के परिणाम घोषित कर दिए गए हैं। 2259 पदों पर हुई भर्ती के लिए अलग-अलग जिलों के परिणाम जारी किया गया है. इस परीक्षा में तृतीय लिंग समुदाय के 13 उम्मीदवारों का पुलिस आरक्षक पद पर चयन हुआ है और दो उम्मीदवार वेंटिंग लिस्ट में हैं। रायपुर जिले से 8, धमतरी से एक, राजनांदगांव से 2, बिलासपुर से एक, कोरबा से एक, अंबिकापुर से एक तृतीय लिंग के परीक्षार्थी का चयन पुलिस आरक्षक के लिए किया गया है।

इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंड़िया ने सभी चयनित उम्मीदवारों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री बघेल ने तृतीय लिंग समुदाय को बधाई देते हुए कहा है कि तृतीय लिंग समुदाय के शासकीय नौकरी में आने से छत्तीसगढ़ में नई शुरूआत हुई है। यह बदलते छत्तीसगढ़ की पहचान है, जिसमें सभी वर्गों की उन्नति के लिए समान अवसर मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें:- बिग ब्रेकिंग- छत्तीसगढ़ पुलिस भर्ती का परिणाम हुआ जारी, देखिए जिलेवार लिस्ट

CM ने उम्मीद जताई है कि चयनित उम्मीदवारों से प्रेरित होकर तृतीय लिंग समुदाय के और भी व्यक्ति पढ़ेंगे और आगे बढ़ेंगे। वहीं मंत्री भेंड़िया ने कहा कि तृतीय लिंग के व्यक्तियों के शासकीय नौकरी में आने से उनके प्रति समाज के नजरिए में एक बड़ा परिवर्तन आएगा। बता दें कि आरक्षक भर्ती में तृतीय लिंग समुदाय के 97 लोगों ने लिखित परीक्षा दी थी। जिनमें से 23 परीक्षार्थियों का चयन फिजिकल टेस्ट के लिए किया गया था। समाज कल्याण विभाग ने तृतीय लिंग समुदाय को मुख्य धारा में लाने के लिए निःशुल्क कोंचिंग की व्यवस्था की थी।

सरकार का आभार

तृतीय लिंग समुदाय के परीक्षार्थियों को प्रशासन एकेडमी में 30 दिन तक लिखित परीक्षा की तैयारी कराई गई थी। इसके बाद राज्य संसाधन और पुनर्वास केंद्र में 120 दिनों तक लिखित और फिजिकल टेस्ट की तैयारी विषय-विशेषज्ञों के माध्यम से कराई गई। यहां उनके निःशुल्क भोजन और ट्रैक सूट की भी व्यवस्था विभाग द्वारा की गई थी। तृतीय लिंग समुदाय ने सहयोग के लिए राज्य सरकार का आभार व्यक्त किया है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close