आज खासप्रेरक प्रसंग
Trending

चाणक्य के मुताबिक गलती से भी किसी को नहीं बतानी चाहिए ये 5 बातें, नहीं तो भुगतना पड़ सकता है भारी नुकसान

www.media24media.com

आचार्य चाणक्य जिन्हें कौटिल्य और विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता है, आचार्य चाणक्य का जन्म ईशा से 350 वर्ष पूर्व हुआ था, जिन्होंने अर्थशास्त्र और नीतिशाश्त्र (Economics and Ethics) की रचना की थी। जिसे ‘चाणक्य नीति’ (Chanakya Niti ) भी कहा जाता है। भले ही चाणक्य द्वारा लिखी गई बाते बहुत पुरानी हो, लेकिन उनके द्वारा कहे गये कथन आज भी उतने सटीक और सही साबित (Chanakya Niti For Successful Life) होती है।

पढ़ें:- चाणक्य नीति : चाणक्य के मुताबिक झूठ, धोखा और दूसरों की बुराई करने वालों को कभी नहीं मिलता सम्मान

आचार्य चाणक्य की नीतियां (Chanakya Niti) और विचार भले ही आपको थोड़े कठोर लगे, लेकिन ये कठोरता ही जीवन की सच्चाई है। हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें, लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे। आज का ये विचार उन बातों से संबंधित है, जिसे गलती से भी हमें किसी को नहीं बताना चाहिए।

पढ़ें:- चाणक्य नीति: आचार्य चाणक्य के मुताबिक इन लोगों से दोस्ती और प्यार करना होता है बेहतर

खुशहाल जिंदगी के लिए आचार्य चाणक्य ने कई नीतियां बताई हैं। अगर आप भी अपनी जिंदगी में सुख और शांति चाहते हैं तो चाणक्य के इन सुविचारों को अपने जीवन में जरूर उतारिए। आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार आज के समय में भी प्रासांगिक हैं। अगर कोई व्यक्ति अपने जीवन में सफलता चाहता है तो उसे इन विचारों को जीवन में उतारना होगा।

यह भी पढ़ें:- चाणक्य नीति : चाणक्य के मुताबिक इन बातों को जानने से कभी किसी से खराब नहीं होंगे रिश्ते

चाणक्य का मानना है कि कुछ बातें ऐसी होती हैं जिन्हें सुनकर लोग आपका मजाक बनाएंगे। ऐसे में आपको उनसे सहानुभूति न मिलने पर और अधिक दुख होगा। चाणक्य कहते हैं कि आपको अपनी निजी बातों को गुप्त ही रखना चाहिए।

  • अर्थनाश मनस्तापं गृहिण्याश्चरितानि च।
  • नीचं वाक्यं चापमानं मतिमान्न प्रकाशयेत॥

चाणक्य इस श्लोक में कहते हैं कि जीवन में धन की हानि मनुष्य को कभी न कभी जरूर होती है। हालांकि, उनके अनुसार जिस व्यक्ति के पैसों का नुकसान हुआ हो, उसे इस बारे में किसी को भी नहीं बताना चाहिए। वो ऐसा इसलिए कहतता हैं क्योंकि उनका मानना है कि नुकसान की बात सुनकर कोई मदद करने तो नहीं आएगा बल्कि आपसे दूरी बना लेगा। 

चाणक्य के मुताबिक सुखी जिंदगी जीने के लिए ये बातें हैं जरूरी, जानिए क्या ?

आचार्य चाणक्य उस व्यक्ति को समझदार कहते हैं जो अपनी पत्नी के चरित्र के बारे में किसी से चर्चा नहीं करता है। जीवनसाथी से हुई बहस, कोई विवाद या झगड़े के बारे में अगर आप किसी और के सामने जिक्र करेंगे तो उससे आपको केवल नुकसान होगा। इससे लोग न सिर्फ उस व्यक्ति की पत्नी का मजाक उड़ाएंगे बल्कि दांपत्य जीवन सुखी होने के बाद भी इस बात की उलाहना देंगे। 

यह भी पढ़ें:- चाणक्य नीति : चाणक्य के मुताबिक लक्ष्य प्राप्त करने के लिए जरूर रखें इस बातों का ध्यान

कौटिल्य के मुताबित व्यक्ति को अपने दुख का ढ़िढोरा नहीं पीटना चाहिए, बल्कि उसे अपने तक ही सीमित रहना चाहिए। आचार्य करते हैं कि किसी भी व्यक्ति को दूसरे की परेशानियों से कोई मतलब नहीं होता है। उनसे संवेदनाएं वेशक सामने दिखा दें पर पीठ पीछे उस दुखी व्यक्ति का लोग मजाक उड़ाते हैं। 

यह भी पढ़ें: चाणक्य नीति : चाणक्य के मुताबिक जॉब, करियर और बिजनेस में ये बातें दिलाती हैं सफलता

चाणक्य के मुताबिक अगर किसी ने आपको ठगा है, तो भी दूसरों के सामने इसका जिक्र न करें। नहीं तो लोग आपकी बुद्धिमता पर सवाल खड़े कर सकते हैं या आगे चलकर आपको ठगने का प्रयास भी कर सकते हैं। 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close