NATIONAL

अगर बैंक का कोई काम हैं पेंडिंग तो जल्दी निपटा लें, इस महीने होने जा रही है हड़ताल, देखिए तारीख

www.media24media.com

अगर आपका बैंक का कोई जरूरी काम पेंडिंग है तो जल्द ही उसे निपटा लें, क्योंकि सरकारी बैंकों में हड़ताल होने वाली है. कैनरा बैंक ने अपने ग्राहकों को आगाह किया है कि उनकी बैंकिंग सेवाओं पर प्रस्तावित हड़ताल (bank Strike News Update) की वजह से असर पड़ सकता है.

दंतेवाड़ा – इंद्रावती नदी पर बन रहे पुल की सुरक्षा में तैनात हेड कांस्टेबल की IED ब्लास्ट में मौत

इस महीने कब-कब बंद रहेंगे बैंक

इस महीने कई दिन बैंक रहेंगे. 11 मार्च को महाशिवरात्रि है, जिसके कारण बैंकों की छुट्टी रहेगी. 16 मार्च के बाद 21 मार्च को रविवार की छुट्टी रहेगी. 22 मार्च को बिहार दिवस है और वहां के बैकों की छुट्टी रह सकती है. 27 मार्च को चौथा शनिवार और 28 मार्च को रविवार होता है. इसके कारण लगातार दो दिनों के लिए बैंक बंद रहेंगे. 29 मार्च को होली के कारण भी बैंक बंद रहेंगे

बैंकों के विलय के खिलाफ हड़ताल

तमाम बैंक यूनियंस All India Bank Employees’ Association (AIBEA), All India Bank Officers’ Confederation (AIBOC), NCBE, AIBOA, BEFI, INBEF, IBOC, NOBW, NOBO और AINBOF ने दो बैंकों के प्रस्तावित विलय के खिलाफ हड़ताल का ऐलान किया है.

15-16 मार्च को बैंक यूनियंस की हड़ताल

Canara Bank ने बताया है कि हमें Indian Banks’ Association (IBA) की ओर से ये सूचना दी गई है कि United Forum of Bank Unions (UFBU) ने बैंकिंग इंडस्ट्री में 15 मार्च और 16 मार्च को हड़ताल का ऐलान किया है. Canara Bank ने कहा है कि वो प्रस्तावित हड़ताल के दिन भी बैंक की शाखाओं और ऑफिसों में सुचारू रूप से काम चलाने के लिए सभी जरूरी कदम उठा रहे हैं, हालांकि फिर भी कामकाज पर असर पड़ सकता है.

Municipal Performance Index 2020- छत्तीसगढ़ के 2 शहरों का उत्कृष्ट प्रदर्शन, देश के टॉप 10 शहरों में बनाई जगह

बजट में बैंकों के विलय का ऐलान

आपको बता दे किं सरकार ने बजट 2021 में दो सरकारी बैंकों ((bank Strike News Update) और एक इंश्योरेंस कंपनी के निजीकरण का फैसला किया है.सरकार पहले ही चार सालों के दौरान 14 सरकारी बैंकों का विलय कर चुकी है. 2019 में सरकार ने LIC में IDBI Bank का मेजोरिटी हिस्सा बेचा था. अभी देश में 12 सरकारी बैंक हैं. उसके बाद इनकी संख्या घटकर 10 रह जाएगी. दो बैंकों का निजीकरण वित्त वर्ष 2021-22 में किया जाएगा. अगले वित्त वर्ष के लिए सरकार ने विनिवेश और निजीकरण का लक्ष्य 1.75 लाख करोड़ रुपए रखा है.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close