Chhattisgarh NewsUncategorizedछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ न्यूजमहासमुंदसाक्षात्कार
Trending

Chunnilal Sahu: जमीन से उठकर ‘सर्वोच्च सदन’ तक का सफर

गांव का लाल चुन्नीलाल ऐसे बन गया जन-जन का चहेता और जागरूक सांसद।

www.media24media.com

छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में स्थित है छोटा सा गांव मोंगरापाली। गांव का लाल, चुन्नीलाल वर्तमान में महासमुन्द संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं। वे लघु-सीमांत किसान परिवार से हैं। सांसद (MP Chunni Lal Sahu) बनने के बावजूद जब भी उन्हें मौका मिलता है, अपने खेत में वे हल चलाते (नागर जोतते) नजर आते हैं। चुन्नीलाल गांव में पैदा हुए, जमीन से जुड़कर भाजपा संगठन का काम किया।

देखें VIDEO:-

2013 में वे छत्तीसगढ़ विधानसभा के लिए खल्लारी से विधायक चुने गए। अब 2019 से महासमुंद संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं। नई दिल्ली के एक मैग्जीन ने देश के शीर्ष 25 सांसदों में उन्हें स्थान दिया है। सर्वे  रिपोर्ट के अनुसार चुन्नीलाल की गिनती देश के ‘जागरूक सांसद’ में हैं। उनका फर्श से अर्श तक का राजनीतिक सफर बहुत ही रोमांचक है। और आम आदमी के लिए प्रेरणास्पद है।

वरिष्ठ पत्रकार आनंदराम साहू से साक्षात्कार (MP Chunni Lal Sahu)

वरिष्ठ पत्रकार आनंदराम साहू से एक खास साक्षात्कार में उन्होंने जमीन से उठकर सर्वोच्च सदन तक पहुँचने की दास्तान खुलकर कही। पेश है साक्षात्कार के प्रमुख अंश, उन्हीं की जुबानी-
 

सवाल- आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि क्या है, आप राजनीति में कैसे और क्यों आए ? 

चुन्नीलाल- मैं एक साधारण किसान परिवार से हूं। पिताजी सुखराम साहू भाजपा के जमीनी कार्यकर्ता थे। नाना जीवनलाल साव मीसाबंदी रहे हैं। बचपन में स्कूल शिक्षा के दिनों की बात है, घर में आपातकाल की खूब चर्चा होती थी। इसका मेरे जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ा। चचेरे भाई स्वर्गीय भाऊलाल साहू संघ के जमीनी कार्यकर्ता थे। उनके साथ अक्सर रायपुर के गद्रे भवन स्थित पार्टी कार्यालय जाना होता था।

किसान आंदोलन और कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई

अन्याय और अत्याचार की बातें सुनकर मन मस्तिष्क में हलचल पैदा होती है। मैं बचपन में ही संघ परिवार और भाजपा के विचारधारा से जुड़ गया। विद्या भारती धर्मजागरण विभाग से जुड़ाव था। जनसेवा की भावना से जुड़कर कार्य करता रहा। राजनीति में यकायक कैसे कदम पड़े, कहना कठिन है। मेरी (MP Chunni Lal Sahu) सेवा भावना और संगठन क्षमता को देखकर भाजपा मंडल और जिला स्तर की जिम्मेदारी सौंपी गई।

सात हजार वोटों के अंतर से विधायक निर्वाचित

सबकुछ अच्छे से निभाता रहा। अचानक 2013 में मुझे खल्लारी विधानसभा से मैदान में उतारा गया। यह मेरे जीवन का पहला चुनाव था। और मैं करीब सात हजार वोटों के अंतर से विधायक निर्वाचित हुआ। 


 सवाल- कभी आपने सोचा था विधायक और सांसद बनेंगे? 

चुन्नीलाल- साधारण किसान परिवार का होने से विधायक और सांसद बनने का सोचना भी दिवा स्वप्न से कम नहीं था। जब 2013 के विधानसभा चुनाव के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह का फोन आया और मुझे चुनाव लड़ने कहा गया तो मैं हैरान था। जुबां पर शब्द नहीं आ रहे थे। “चुप कैसे हो गए? डॉ रमन सिंह के सवाल पर मैंने कहा- भाई साहब! गरीब किसान परिवार से हूं। चुनाव बहुत खर्चीला हो गया है, मैं कैसे चुनाव लड़ पाऊंगा?उन्होंने दो टूक कहा-तुम्हें चुनाव लड़ना है, तैयारी करो।” इस तरह अप्रत्याशित रूप से मुझे टिकट मिली। विधायक भी बन गया, लेकिन तब यह नहीं सोचा था कि मैं कभी सांसद भी बन सकता हूं।

उद्धव सरकार ने घटाई पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस की सुरक्षा


सवाल- पांच साल विधायक कार्यकाल की आपकी उपलब्धि क्या है?

चुन्नीलाल- वर्ष 2013 से 2018 तक पांच साल खल्लारी (छत्तीसगढ़ विधानसभा) से विधायक रहा। मेरे कार्यकाल की उपलब्धि सिंचाई, शिक्षा और आवागमन के लिए सड़कों का जाल बिछाया जाना प्रमुख है। कांदाजरी डायवर्सन से वर्तमान में 17 गांव के दो हजार एकड़ जमीन की सिंचाई हो रही है। दूरस्थ अंचल तक हाई स्कूल शिक्षा और गांव-गांव में पक्की सड़क मार्ग का विस्तार किया है। जनसामान्य से निरंतर संपर्क में रहना, सबके सुख-दुख में सहभागिता निभाना मेरी प्रमुख उपलब्धि है।

सवाल- डेढ़ साल के संसदीय कार्यकाल की कोई बड़ी उपलब्धि है? 

चुन्नीलाल- पार्टी ने जो भी जिम्मेदारी सौंपी, सब पर खरा उतरने जी-जान लगा दिया। संसदीय क्षेत्र की मूलभूत आवश्यकताओं के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं। महासमुन्द संसदीय मुख्यालय में मेडिकल कॉलेज की स्थापना के लिए केंद्र सरकार के समक्ष पहल और इसे मूर्तरूप में लाने निरंतर प्रयास अब तक की मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है। 


सवाल- राजनीति में कोई बड़ा सपना, जिसे पूरा करना है? 
 

चुन्नीलाल- मैंने लोकसभा चुनाव के दौरान ही मगध  (महासमुन्द-गरियाबंद-धमतरी) परियोजना की परिकल्पना की है। जैसे ओड़िशा का नुआपाड़ा जिला 1936 तक तत्कालीन महासमुन्द तहसील का हिस्सा था। तब नुआपाड़ा का कालाहांडी क्षेत्र की पहचान पलायन और भुखमरी के लिए राष्ट्रीय स्तर पर थी।

Horoscope 11 January 2021: आज का राशिफल- इन राशियों के लिए अच्छा रहेगा आज का दिन, इन राशियों को हो सकता है भारी नुकसान

कालाहांडी के समन्वित विकास के लिए केबीके (कालाहांडी-बलांगीर-कोरापुट) परियोजना बनाई गई।जिससे क्षेत्र का विकास हुआ और आज यह क्षेत्र भुखमरी मुक्त है। वैसे ही मगध परियोजना से महासमुन्द संसदीय क्षेत्र के समन्वित विकास की जरूरत है। इस परियोजना को लागू करने के लिए लोकसभा में निरंतर आवाज उठा रहे हैं। हमें उम्मीद है इस ड्रीम प्रोजेक्ट को जरूर लागू किया जाएगा। और हमारा संसदीय क्षेत्र खासकर महासमुन्द जिला गरीबी और पलायन से मुक्त हो सकेगा।
 

सवाल- 542 सांसदों में आप  जागरूक सांसद कैसे चुने गए ? 

चुन्नीलाल- मुझे नहीं मालूम कि किस मापदंड से मुझे जागरूक सांसद चुने हैं। मैं जमीन से जुड़ा हुआ हूं, आज भी आम आदमी हूं। किसान-मजदूरों की समस्याओं को सदन में प्रमुखता से उठाया हूं। पहली बार का सांसद होने के बावजूद लोकसभा में निरन्तर मुखर रहा। महासमुन्द जिले से 72 हजार श्रमिक पलायन कर गए थे।

कोरोना ना हो जाए इस डर से पहले ही खा लिया जहर, 1 की मौत, दूसरी अस्पताल में भर्ती

राज्य सरकार ने नीति आयोग को महज सात-आठ सौ लोगों के पलायन का मिथ्या आंकड़ा देकर श्रमिकों का बड़ा नुकसान किया। इसे मैं सदन और सदन के बाहर भी मुखर होकर उठाया। आम आदमी की आवाज उठाने की वजह से मुझे जागरूक सांसद माना गया होगा। संभवतः यह भी मेरे चयन का एक कारण हो सकता है।


सवाल- जनता के नाम कोई संदेश देंगे ? 

चुन्नीलाल- हमारे क्षेत्र का प्रमुख व्यवसाय खेती है। खेती और खेती आधारित व्यापार पर ही संपूर्ण अर्थव्यवस्था निर्भर है। इसलिए हमने अकालमुक्त महासमुन्द का सपना संजोया है। सिकासेर जलाशय के उलट (वेस्ट वेयर) से बहने वाली पानी को नहर नाली निर्माण कराकर बागबाहरा के चंडी-चरौदा बांध और महासमुन्द के कोडार जलाशय तक लाने की व्यवस्था के लिए पुरजोर प्रयास जारी है। इससे सिंचाई का रकबा और भूमिगत वाटर लेवल दोनों बढ़ेगा। इसके लिए राज्य के कृषि मंत्री से लेकर केंद्रीय कृषि मंत्री के मध्य समन्वय स्थापित कर कार्ययोजना तैयार कर रहे हैं। इससे आम आदमी के जीवन में खुशहाली आएगी। महासमुन्द और बागबाहरा एनएच-353 पर शहर के बाहर से बाइपास निर्माण का लंबित प्रस्ताव को गति देकर निर्माण कराने जुटे हुए हैं।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close