वार-पलटवार

‘कम्प्यूटर बाबा’ गिरफ्तार, आश्रम पर चला बुलडोजर, ये है आरोप

www.media24media.com

इंदौरः मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में सरकारी जमीन पर कब्जा कर बनाए गए आश्रम को जिला प्रशासन और नगर निगम के अमले में रविवार को बुलडोजर चलाकर जमींदोज कर दिया। यह आश्रम पूर्व में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त कम्प्यूटर बाबा (Computer baba) के नाम से प्रसिद्ध नामदेव दास त्यागी का था। प्रशासन की कार्यवाही के दौरान बाबा और उनके समर्थकों ने विरोध किया। इस दौरान पुलिस ने कम्प्यूटर बाबा (Computer baba) समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया और जेल भेज दिया है।

यह भी पढ़ें : –CG PSC Top-10 : सरायपाली विधायक की बेटी ऐसे बनीं व्यवहार न्यायाधीश

जानकारी के मुताबिक, कम्प्यूटर बाबा (Computer baba) ने हातोद तहसील क्षेत्र के ग्राम जमूड़ी हपसी के पास गोम्टीगिरी में दो एकड़ शासकीय भूमि पर अनाधिकृत रूप से कब्जा कर आश्रम बनाया था। जिस पर प्रशासन ने दो महीने पहले नोटिस भेजा था। जिला प्रशासन और नगर निगम के अमले ने रविवार को भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर जेसीबी और पोकलेन मशीनों के जरिए कम्प्यूटर बाबा द्वारा किया गया अतिक्रमण हटा दिया।

यह भी पढ़ें : –कल से शुरू होगी केंद्र सरकार की सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम

कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देशन में एडीएम अजय देव शर्मा के मार्गदर्शन में यह कार्रवाई की गई। मौके पर मौजूद हातोद एसडीएम शाश्वत शर्मा ने बताया कि इस संबंध में राजस्व प्रशासन द्वारा कम्प्यूटर बाबा के विरुद्ध दो हजार रुपये का अर्थदंड आरोपित करते हुए शासकीय भूमि के अनाधिकृत कब्जा हटाने का आदेश पारित किया था, लेकिन उन्होंने अतिक्रमण नहीं हटाया, इसीलिए प्रशासन को यह कार्रवाई करनी पड़ी।

अतिक्रमण हटाने के दौरान कप्यूटर बाबा और उनके समर्थकों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए कम्प्यूटर बाबा और उनके छह समर्थकों को शासकीय कार्य में बाधा डालने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है और सभी सातों लोगों को फिलहाल पुलिस हिरासत में रखा गया है।

बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा ने पिछले कार्यकाल में कप्यूटर बाबा को राज्यमंत्री का दर्जा दिया था, लेकिन 2018 के विधानसभा चुनावों में कम्प्यूटर बाबा ने कांग्रेस का समर्थन किया और चुनावी सभाएँ भी की। इसके बाद कमलनाथ सरकार द्वारा उन्हें नदी न्याय का अध्यक्ष बनाया गया था, लेकिन कमनलाथ सरकार गिर गई। इसके बाद भी उपचुनावों में भी कम्प्यूटर बाबा ने कांग्रेस के समर्थन में अभियान चलाया।

दिग्विजय ने की कार्रवाई की निंदा

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने प्रशासन की कार्रवाई की निंदा करते हुए कहा, ‘इंदौर में बदले की भावना से कंप्यूटर बाबा का आश्रम व मंदिर बिना किसी नोटिस दिए तोड़ा जा रहा है। यह राजनैतिक प्रतिशोध की चरम सीमा है। मैं इसकी निंदा करता हूं।’

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close