देश-दुनिया

हर नागरिक को लगाई जाएगी ‘कोरोना वैक्सीन’ : PM मोदी

www.media24media.com

दिल्ली :  देश में कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित लोगों की संख्या 8 मिलियन को पार कर गई है और चुनाव की ओर बढ़ रही है, राज्यों ने मुफ्त में ‘कोरोना वैक्सीन’ (Corona vaccine) पेश करने का वादा किया है। ऐसी स्थिति में भारत सरकार का कोरोना वैक्सीन के प्रति रवैया क्या है? तो मैं आपको बता दूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) को लेकर एक बड़ा बयान दिया है।

उन्होंने एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में कहा कि जब भारत में कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) उपलब्ध होगा, तो यह हर नागरिक को दिया जाएगा, कोई भी पीछे नहीं रहेगा।

यह भी पढ़ें : –Corona Update : भारत में 6 लाख एक्टिव केस, 80 लाख पर हुआ आंकड़ा

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा समय पर लिए गए फैसलों और देश में लोगों की मदद के कारण, बहुत से लोग बच गए हैं। लॉकडाउन को लागू करने और फिर अनलॉक करने की प्रक्रिया का समय पूरी तरह से सही था। वैक्सीन के बारे में उन्होंने कहा कि मैं देश को आश्वस्त करना चाहता हूं कि जब भारत में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होगा, तो प्रत्येक नागरिक को टीका लगाया जाएगा। इससे कोई पीछे नहीं रहेगा। हां, यह सुनिश्चित है कि शुरू में कोरोना खतरे के निकटतम वैक्सीन अभियान से जुड़ा होगा।

यह भी पढ़ें : –अगर अभिनंदन को नहीं छोड़ता पाक तो भारत कर देता हमला : पाक विदेश मंत्री कुरैशी

कोरोना से लड़ाई पर पीएम मोदी का जवाब

कोरोना से सरकार कैसे लड़ रही है इसको लेकर पीएम मोदी ने कहा, “हमें आजादी मिले सात दशक से भी ज्यादा हो गया लेकिन अभी भी कुछ लोग उस औपनिवेशिक मानसिकता के शिकार हैं, जो समझते हैं कि सरकार और जनता दोनों अलग-अलग हैं. इसी विचारधारा के तहत ये छवि बनाई गई है कि ये आपदा सरकार पर गिरी है. इस महामारी से 130 करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं, जिसके खिलाफ सरकार और जनता एक साथ लड़ाई लड़ रही है.”

पीएम मोदी ने अन्य देशों का किया ज़िक्र

प्रधानमंत्री ने कहा, “जबसे कोरोना की शुरुआत हुई तबसे दुनिया के कई देशों में बढ़ते मौत के आंकड़े डरा रहे थे. उनकी स्वास्थ्य सेवाएं अचानक मरीजों के बढ़े बोझ से चरमरा रही थीं. युवा और बुजुर्ग दोनों की मौत हो रही थी. उस वक्त हमारा एक ही लक्ष्य था कि भारत में ऐसी परिस्थिति से बचा जाए और लोगों की जिंदगी बचाई जाए. ये वायरस एक अज्ञात दुश्मन की तरह था. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था. जब आप एक अदृश्य दुश्मन से लड़ते हैं, तो उसके खिलाफ एक प्रभावी रणनीति बनाने के लिए थोड़ा वक्त लगता है.”

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close