देश-दुनिया

COVID -19 ने स्‍टार्ट से पहले रीस्‍टार्ट करने का दिया मौका: मोदी

www.media24media.com

नई दिल्‍ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोविड-19 महामारी (Coronavirus) ने दुनिया को स्‍टार्ट करने से पहले रिस्‍टार्ट करने का अवसर दिया है। वीडियो कांफ्रेंसिंग (Video conferencing) के जरिए तीसरे ब्‍लूमबर्ग न्‍यू इकानॉमिक फोरम (Bloomberg New Economic Forum) को संबोधित करते हुए मोदी ने ये बात कही। प्रधानमंत्री ने इस फोरम में अपने संबोधन के दौरान विभिन्न मुद्दों पर अपनी बात रखी।

यह भी पढ़ें : –PM मोदी ने US के नए राष्ट्रपति बाइडन से बात की, कई मुद्दों पर की चर्चा

प्रधानमंत्री ने कहा कि मौजूदा कोविड-19 महामारी (Coronavirus) ने दुनिया को दिखाया कि विकास के इंजन शहर भी सबसे कमजोर हैं। मोदी ने कहा कि कोरोना महामारी ने हमें स्टार्ट करने से पहले रीस्‍टार्ट करने का अवसर दिया है। अब रिस्टार्ट करने का एक अच्छा बिंदु शहरी केंद्रों का कायाकल्प करना होगा। मोदी ने कहा कि ‘लॉकडाउन को दुनियाभर में प्रतिरोध का सामना करना पड़ा लेकिन भारतीय शहरों में लॉकडाउन के नियमों का पालन हुआ है क्योंकि हमारे शहरों की सोसाइटी केवल घरों से बनी जगह नहीं, बल्कि समुदाय है। उन्‍होंने कहा कि क्या हम टिकाऊ शहरों का निर्माण नहीं कर सकते। भारत में यह प्रयास किया गया है कि हम ऐसे शहरी केंद्रों का निर्माण करें, जिनमें शहरों की सुविधाएं हों, लेकिन गांवों जैसी भावना हो।

हमें इन अवसरों को लपकना होगा

पीएम ने कहा कि प्रौद्योगिकी ने हमें कोविड-19 महामारी (Coronavirus) के दौरान अपना काम जारी रखने में मदद की है। मोदी ने कहा कि विश्व युद्धों के बाद पूरी दुनिया में व्यापक परिवर्तन देखने को मिले थे लेकिन कोविड-19 ने हमें हर सेक्टर में नए प्रोटोकॉल विकसित करने के समान अवसर उपलब्ध कराए हैं। उन्‍होंने कहा कि यदि हम भविष्य के लिए मजबूत व्यवस्था विकसित करना चाहते हैं तो हमें इन अवसरों को लपकना होगा।

उल्‍लेखनीय है कि ब्लूमबर्ग न्यू इकोनॉमिक फोरम की स्थापना साल 2018 में माइकल ब्लूमबर्ग ने की थी। इस फोरम का लक्ष्य विश्व की कठिन आर्थिक चुनौतियों के समाधान को लेकर दुनियाभर के नेताओं को विचार-विमर्श करने के लिए एक साझा मंच पर लाने का है। इस फोरम की पहली बैठक सिंगापुर में हुई थी, जबकि दूसरे सालाना फोरम का आयोजन बीजिंग में हुआ था। इन बैठकों में वैश्विक आर्थिक प्रबंधन, व्यापार और निवेश, प्रौद्योगिकी, शहरीकरण, पूंजी बाजार, जलवायु परिवर्तन और समावेशन जैसे मसलों पर चर्चा हुई थी।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close