Chhattisgarh Newsअच्छी पहलआज खास

चिड़िया रानी : चुगेगी दाना, पीएगी पानी

www.media24media.com

गर्मी की तपिश शुरू हो गई है। कोरोना के कहर के बीच इन दिनों ज्यादातर लोग अपने कुनबे में दुबके हुए हैं। ऐसे समय में पंछी दाना-पानी के लिए भटक रहे हैं। इससे व्यथित होकर अनेक समाजसेवी ‘दाना-पानी’ अभियान चला रहे हैं।

चू-चू करते घर आंगन या छत के आसपास कोई चिड़िया दिखे तो उसके लिए दाना-पानी का इंतजाम करके हमें मानवता का परिचय देना चाहिए।

गर्मी का मौसम इन पंछियों के लिए भयानक होता है। भूख प्यास से पंछियों के प्राण पखेरू तक उड़ सकता है। इनकी रक्षा करना हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी है। छोटे-छोटे पक्षियो के लिए दाना पानी आसानी से उपलब्ध हो सके, इसके लिए एनसीसी के सेवाभावी युवा अभियान चला रहे हैं। जो प्रेरणास्पद है। ताकि भूखे प्यासे न रहें पंछी


अपने घरों मे अथवा जहाँ पक्षियों का आना-जाना लगा हो उस जगह पर मिट्टी के पात्र में अथवा किसी डिब्बे मे पानी भरकर रख सकते हैं। चावल, गेहूं के कुछ दाने भी डाल रहे हैं। अपने घरों के आसपास व छतों पर दाना-पानी रखें, जहाँ आकर पक्षी आसानी से दाना चुग सकें। पानी पीकर प्यास बुझा सकें।

एनसीसी के कैडेट जुटे हैं अभियान में

इस क्रम में शासकीय महाप्रभु वल्लभाचार्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय महासमुन्द के एनसीसी कैडेटों की भूमिका सराहनीय है। मेघा तिवारी, मोहन साहू,निक्की कोसले, श्रीयांशी चंद्राकर, लिपि बेहरा, अदिति पांडेय, झालेश्वर, गणेश्वर, नीलेश, मंजूला, किशोर कुमार, लोमश, हुमेश, लोकेश्वरी, नेमिन साहू, गीता साहू, किरण यादव, लक्ष्मी पटेल, उदित, लेखराम, जितेन्द्र सिन्हा, वतन सिंह ‘दाना-पानी’ अभियान में जुड़े हुए हैं। वहीं हरिश्चंद्र साहू ने भी नागरिकों से इसमें सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की है।

प्राकृतिक संतुलन बनाना मानव जाति की महती जिम्मेदारी है। इसमें संवेदनशील युवा सक्रिय भागीदारी निभा रहे हैं। आप भी करके देखिए-अच्छा लगता है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close