Chhattisgarh Newsछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ न्यूजरायपुर
Trending

राज्यपाल ने वेटरन डे कार्यक्रम में वीर नारियों और वीर माताओं का किया सम्मान

राज्यपाल अनुसुइया उइके (Governor Anusuiya Uike) गुरुवार को नवा रायपुर में छत्तीसगढ़ और ओडिशा उपक्षेत्र द्वारा आयोजित वेटरन डे कार्यक्रम में शामिल हुई और वीर नारियों और वीर माताओं का सम्मान किया।

www.media24media.com

राज्यपाल अनुसुइया उइके (Governor Anusuiya Uike) गुरुवार को नवा रायपुर में छत्तीसगढ़ और ओडिशा उपक्षेत्र द्वारा आयोजित वेटरन डे कार्यक्रम (Governor honors brave women) में शामिल हुई और वीर नारियों और वीर माताओं का सम्मान किया। उन्होंने पूर्व सैनिकों और उनके परिजनों को देश के प्रति उनके योगदान के लिए धन्यवाद देते हुए शहीद सैनिकों को नमन किया।

राज्यपाल (Governor Anusuiya Uike) ने कहा कि भारतीय सेना का नाम लेते ही हमारा मस्तक गर्व से ऊंचा उठ जाता है। जो हर मौसम में हर क्षण देश की सीमा में रक्षा की दीवार बनकर तैनात रहते हैं, जिनके कारण आज देश का हर नागरिक महफूज रहता है और चैन की सांस लेता है।

सरपंच ने कलेक्टर को उड़ाने रची साजिश, नक्सली कमांडर को दी सुपारी

वे जागते हैं तो हम शांति से सो पाते हैं, क्योंकि हमें पता है कि हमारी सेना के रहते दुश्मन की सेना क्या, दुश्मन देश का परिंदा भी पर नहीं मार सकता। हमारी सेना जमीन, नभ और जल पर चौबीसों घंटे अपनी निगरानी रखी रहती है। स्वतंत्रता के बाद जितने भी युद्ध हुए, हमारे सैनिकों ने अपने मनोबल और साहस से लड़ा और दुश्मनों को धूल चटाई।

इंश्योरेंस के पैसे के लिए बड़े भाई ने की छोटे भाई की हत्या, जानिए क्या है पूरा मामला

चाहे बांग्लादेश युद्ध को याद करें या कारगिल का युद्ध, दुश्मनों ने हमारी सेना के आगे घुटने टेके। आज जब हम देश के सबसे ऊंचे सैन्यस्थल की बात करें, जहां माइनस 30 से 40 डिग्री तक तापमान दिन में रहता है और रात में तापमान माइनस 70 डिग्री तक चला जाता है, वहां हमारे सैनिक अपनी जान की परवाह किए बिना तैनात रहते हैं।

राज्यपाल ने कही ये बात (Governor honors brave women)

जब पूरा देश कोरोना संक्रमण से जूझ रहा था उस समय चीन ने हमारे देश की सीमा को लांघने की कोशिश की तो हमारी सेना ने उसका मुंहतोड़ जवाब दिया और दुश्मनों को अपने कदम पीछे करने के लिए मजबूर किए। यह युद्ध क्षेत्र लद्दाख क्षेत्र के गलवान घाटी में स्थित है, जहां का तापमान माइनस 20 से 22 डिग्री रहता है, वहां हमारे सैनिकों ने बहादुरी का परिचय दिया और आज भी तैनात हैं।

श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर बर्फ से टकराया इंडिगो का विमान, 233 यात्री थे सवार

राज्यपाल (Governor Anusuiya Uike) ने कहा कि युद्ध क्षेत्र ही नहीं हमारे देश में जब कभी भी प्राकृतिक विपदा, बाढ़ या भुकंप आई, हमारे सैनिक एक सूचना पर तैनात हो जाते हैं और संकटग्रस्त लोगों की मदद कर उनकी जान बचाते हैं।

मुनगा तोड़ने को लेकर विवाद, महिलाओं ने एक-दूसरे का फोड़ा सिर

हमारे देश ही नहीं, हमारे पड़ोसी देशों जैसे नेपाल में भी भूकंप आया था तो हमारे सैनिकों ने उनकी सहायता (Governor honors brave women) की। आज जब पूरा विश्व और देश में कोरोना संकट छाया हुआ है, उस समय हमारे सेना ने क्वॉरेंटाइन सेंटर भी स्थापित किए थे और दवाईयां सहित आवश्यक सामग्रियों की आपूर्ति में प्रमुख भूमिका निभाई।

भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाएंगे 83 तेजस विमान

राज्यपाल (Governor Anusuiya Uike) ने कहा कि ‘मैंने यह भी देखा था कि कोरोना योद्धाओं के सम्मान में वायु सेना के विमानों ने आसमान से पुष्प बरसाकर उनका उत्साहवर्धन किया था। उन्होंने छत्तीसगढ़ के पूर्व सैनिकों की सामाजिक संस्था ‘सिपाही’ का जिक्र करते हुए कहा कि कोरोना काल में वे स्थानीय प्रशासन के साथ समन्वय बनाकर लोगों की मदद की। राज्यपाल ने कहा कि सैनिकों के साहस और निःस्वार्थ सेवा और बलिदान की गाथाएं नई पीढ़ियों को उत्साहित करती हैं।

राज्यपाल ने भूतपूर्व सैनिकों और उनकी विधवाओं को दिया आश्वस्त (Governor honors brave women)

राज्यपाल (Governor Anusuiya Uike) ने कहा कि सरकार की निरंतर कोशिश रहती है कि सैनिकों की सेवानिवृत्ति के बाद का जीवन कैसे सहज किया जाए। उन्होंने कहा कि भूतपूर्व सैनिकों एवं उनके परिवारजनों को नया रायपुर आने-जाने में होने वाली परेशानी को दूर करने के लिए एक वाहन देने का निर्णय लिया गया है। राज्यपाल ने भूतपूर्व सैनिकों और उनकी विधवाओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि उनकी समस्याओं के समाधान के लिए हरसंभव प्रयास करूंगी और अगर किसी भी प्रकार की समस्या हो तो मुझसे संपर्क कर सकते हैं।

प्रभारी मुख्य सचिव सुब्रत साहू ने कही ये बात

अपर मुख्य सचिव गृह एवं प्रभारी मुख्य सचिव सुब्रत साहू ने कहा कि देश की सेवा में सैनिकों ने अमूल्य योगदान दिया है। सैनिकों के बलिदान की कहानियां नई पीढ़ी को प्रेरणा प्रदान करती है। शासन द्वारा भूतपूर्व सैनिकों और उनके परिजनों का ख्याल रखा जाता है।

सैनिक कल्याण बोर्ड

भूतपूर्व सैनिकों और उनके परिजनों की समस्याओं का पूरी गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ निराकरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्ति के बाद भूतपूर्व सैनिकों को कोई परेशानी न हो, यह प्रयास शासन द्वारा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सैनिक कल्याण बोर्ड के माध्यम से भी वे अपनी समस्याओं को शासन के ध्यान में ला सकते हैं।

कमांडर ब्रिगेडियर प्रशांत चौहान ने कही ये बात

इस अवसर पर छत्तीसगढ़ और ओडिशा उपक्षेत्र के कमांडर ब्रिगेडियर प्रशांत चौहान ने कहा कि वेटरन डे पूर्व सैनिकों और उनके परिजनों के सम्मान का दिन है। यह कोशिश की जाती है कि उनकी समस्याओं का हरसंभव समाधान हो। साथ ही इसके लिए एक्स सर्विसमेन सेल का भी गठन किया गया है। इस सेल कार्यालय नवा रायपुर स्थित छत्तीसगढ़ औस ओडिशा उपक्षेत्र में रहेगा। संचालनालय सैनिक कल्याण छत्तीसगढ़ के संचालक एयर कमोडोर ए. एन. कुलकर्णी (से.नि.) ने कहा कि वेटरन डे पर सैनिकों और पूर्व सैनिकों को एक-दूसरे का उत्तरदायित्व बताने का दिन है।

गैंगरेप के बाद ब्यूटी क्वीन की हत्या, लोग कर रहे इंसाफ की मांग

राज्यपाल (Governor Anusuiya Uike) ने भूतपूर्व सैनिकों और उनके परिवारजनों के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। इस मौके पर विधायक औस छत्तीसगढ़ राज्य हाउंसिंग बोर्ड के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा, छत्तीसगढ़ एवं ओडिशा उपक्षेत्र के अधिकारीगण, भूतपूर्व सैनिक और उनके परिजन उपस्थित थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close