आज खासप्रेरक प्रसंग
Trending

अगर पाना चाहते हैं महालक्ष्मी की कृपा तो इन चीजों को घर में न होने दें इकट्ठा

महालक्ष्मी (Mahalakshmi) की कृपा पाने के लिए कुछ चीजों को घर में कभी नहीं रखना चाहिए या फिर घर से दूर ही रखना चाहिए।

www.media24media.com

महालक्ष्मी (Mahalakshmi) की कृपा पाने के लिए कुछ चीजों को घर में कभी नहीं रखना चाहिए या फिर घर से दूर ही रखना चाहिए। लक्ष्मीजी (Mahalakshmi) को सभी रंग प्रिय हैं। फिर भी काली वस्तुओं को रसोईघर के अतिरिक्त अन्य स्थान पर घर में न रखें। वहीं ऐसी वस्तुएं जिनकी चमक जल्दी फीकी पड़ जाती है। उन्हें संग्रहित करने से बचें।

इसके अलावा तस्वीरों, कपड़ों और अन्य रंगीन सामान की देखभाल अच्छे से करें। यूं ही पड़े रहने की स्थिति में मां की कृपा कम हो सकती है। वहीं घर के ड्राइंग रूम में युद्ध वाले उपकरण, खिलौने और चित्र प्रयोग में न लाएं। संभव हो तो ऐसे सामानों को छिपाकर रखना चाहिए। ड्राइंग रूम में सभी लोग एक साथ बैठते हैं। यहां विचारों में प्रेम विश्वास और सहजता बढ़ाने वाली वस्तुओं का इस्तेमाल करें। साथ ही ड्राइंग रूम में अत्यधिक बिजली वाले उपकरणों से भी बचें।

यह भी पढ़ें:- Vastu Shastra : इन पेड़-पौधों से आती है आर्थिक समृद्धि, इन पौधों को न दे अपने घर में जगह

वहीं सफाई में प्रयोग आने वाले खराब हो चुके उपकरणों को जितना जल्दी हो घर से हटा दें। पुराने झाडू को बिना कारण घर में जगह न दें। सफाई के बाद इन्हें ऐसे जगह पर रखें जहां से ये किसी को नजर न आएं। साथ ही घर में बहुत ज्यादा भड़कीले रंग प्रयोग में न लाएं। सौम्य रंगों को प्रयोग करें। रंगों का चयन बच्चों और महिलाओं की पसंद से करें।

घर में टूटा हुआ कोई सामान सहेजने की गलती न करें। इन्हें संवार लें या हटा दें। टूटे ग्लास, क्रॉकरी और अन्य सामानों पर नजर बार-बार जाती है। इससे ध्यान भंग होता है। महत्वपूर्ण कार्यों में व्यवधान आता है।

बता दें कि हिंदू धर्म (Hindu Mathalogy) में वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) और उसमें बताए गए उपायों का अपना एक विशेष महत्व हैं। दरअसल हम भूल से या अनजाने में घर में कुछ ऐसे कर देते है जो हमारी आर्थिक हानि और विनाश का कारण बन सकते हैं। वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) के मुताबिक अगर चीजों को सही तरीके से की जाएं तो घर के वास्तु दोष दूर हो करते हैं।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close