Chhattisgarh Newsआज खासछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ न्यूजरायपुर
Trending

राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह: वाहन चालकों को यातायात नियमों का पालन करने चौक-चौराहों पर दी जा रही हिदायतें

www.media24media.com

यातायात नियमों के पालन (Compliance with traffic rules) के लिए जनजागरूकता लाने के उद्देश्य से रायपुर यातायात पुलिस द्वारा राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह (Road Safety Month Rules) का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। 18 जनवरी से शुरू हुआ यह अभियान एक माह का है, जो 17 फरवरी तक चलेगा। इसके पहले के सालों में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जाता था। वहीं इस साल इसकी अवधि में बढ़ोतरी की गई है, ताकि जन मानस में यातायात नियमों के प्रति ज्यादा सजगता आ सके।

यह भी पढ़ें:राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह: जानें क्या है नया सड़क सुरक्षा कानून , नहीं तो भरना पड़ सकता है मोटा जुर्माना

सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए चलाए जा रहे इस विशेष अभियान के तहत वाहन चालकों को चौक-चौराहों पर माइक से अनाउन्स कर यातायात नियमों का पालन करने की हिदायतें दी जा रही है। इसके साथ ही यातायात नियमों से संबंधित बैनर, पोस्टर, पम्पलेट के जरिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह: गाड़ी चलाते समय इन नियमों का करें पालन

यातायात पुलिस द्वारा वाहन चालकों से अपील की जा रही है कि स्टॉप लाइन का पालन करें, वाहन चलाते समय फोन का उपयोग न करें, दो पहिया वाहनों में तीन सवारी न चलें, वाहन चलाते समय सीट बेल्ट लगाएं और अनिवार्य रूप से हेलमेट लगाएं। जागरूकता अभियान के तहत यातायात पुलिस द्वारा सुरक्षित स्कूल परिवहन के नियम, यातायात को नियोजित और नियंत्रित करने के लिए विभिन्न संकेतों का पालन करने की जानकारी दी जा रही है।

हेलमेट लगाएं-सिर बचाएं(Road Safety Month Rules)

यातायात नियमों का पालन के लिए जनजागरूकता अभियान के तहत वाहन चालकों से अपील की जा रही है कि वे उच्च गुणवत्ता वाले ISI मार्का वाले हेलमेट का ही उपयोग करें। साथ ही हेलमेट की चिन स्ट्रैप हमेशा बांधे। हेलमेट सिर पर लगने वाले गंभीर चोटों की संभावना को 70 प्रतिशत और मृत्यु की संभावना को 40 प्रतिशत तक कम करता है। बता दें कि दो पहिया वाहनों से होने वाली दुर्घटनाओं में लगभग 80 प्रतिशत व्यक्तियों की मृत्यु हेलमेट नहीं पहनने से होती है। हेलमेट का तात्पर्य अंग्रेजी वर्णमाला के मुताबिक हेड-सिर, ईयर-कान, लिप-होठ, माउथ-मुंह, आई-आंख और टीथ-दांत से है। हेलमेट लगाने से ये सभी अंग सुरक्षित रहते है।

ओवरस्पीडिंग है सड़क हादसों का सबसे बड़ा कारण

  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक साल 2016 में हुए सड़क दुर्घटनाओं के कुल 1 लाख 30 हजार 868 मामलों में से 57 प्रतिशत में ओवरस्पीडिंग मुख्य कारण था।
  • इसके अलावा सड़क दुर्घटनाओं के लिए शराब या ड्रग का प्रयोग करके गाड़ी चलाना भी एक कारण है।
  • हेलमेट का प्रयोग न करना भी सड़क हादसों का एक बड़ा कारण है।
  • सड़कों की बदहाली भी हादसों की वजह बनती है।
  • सड़क का खराब डिजाइन और इंजीनियरिंग भी हादसों की वजह है।
  • सामग्री और निर्माण की खराब गुणवत्ता भी हादसों का कारण है।

लोगों को यातायात नियमों के प्रति किया जाएगा जागरूक

बता दें कि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा हर साल जनवरी के दूसरे हफ्ते में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जाता है, लेकिन इस साल 2021 में सरकार ने राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह की जगह राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह मनाने का निर्णय किया है। सड़क सुरक्षा माह 2021 अभियान के दौरान सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए आम-जन मानस को यातायात नियमों के प्रति अधिकाधिक जागरूक किया जाएगा। राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के अंतर्गत 18 जनवरी से 17 फरवरी एक माह तक अलग-अलग सड़क सुरक्षा अभियान चलाया जाएगा।

यह भी पढ़ें:राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह: यातायात नियमों के प्रति जनजागरूकता के लिए चलाया जा रहा अभियान

18 जनवरी 2021 से 17 फरवरी 2021 तक मनाए जाने वाले सड़क सुरक्षा माह की इस बार की थीम ‘सड़क सुरक्षा-जीवन रक्षा’ तय की गई है। विभाग द्वारा इस थीम पर आधारित विभिन्न गतिविधियां आयोजित करनी होंगी।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close