न्यायपालिका

E- Court के जरिए 5.29 लाख से ज्यादा राजस्व मामलों का निराकरण

www.media24media.com

रायपुर :  छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राजस्व प्रकरणों के शीघ्र निराकरण के लिए ई-कोर्ट (E- Court) प्रणाली लागू की गई है। ई-कोर्ट से प्रदेश में अब तक 5 लाख 29 हजार 131 मामलों का निराकरण किया जा चुका है। ई-कोर्ट (E- Court )प्रणाली में जन सामान्य के राजस्व संबंधी मामले राजस्व न्यायालयों में प्राप्त होने वाले सभी आवेदनों को ऑनलाईन दर्ज कर आवेदक को पावती प्रदान की जा रही है।

यह भी पढ़ें : –नरवा कार्यक्रम : केन्द्र सरकार ने बिलासपुर और सूरजपूर जिले को नेशनल वाटर अवार्ड के लिए किया चयनित

ई-कोर्ट (E- Court )में दर्ज मामले की अद्यतन जानकारी पक्षकारों को उनके प्रकरणों के संबंध की जा रही कार्यवाही की जानकारी अब ऑनलाईन दी जा रही है। प्रदेश के सभी जिलों में कलेक्टर से लेकर नायब तहसीलदार तक के सभी न्यायालय पंजीबद्ध है।

यह भी पढ़ें : –अंडे खाने से पहले इस तरह चेक करें उसकी क्वालिटी

राजस्व न्यायालयों में दर्ज प्रकरणों में भू-अर्जन, भू-राजस्व और शास्ति की वसूली, भू-राजस्व निर्धारण, कृषि प्रयोजन के लिए भूमि बंटन, भूमि-स्वामी हक, नजूल भूमि का स्थाई पट्टा तथा नजूल भूमि के अन्य मामले, खातों का बटवारा, नामांतरण, बंदोबस्त, अभिलेखों में सुधार, नगरीय क्षेत्रों में राजस्व-भू मापन और बन्दोबस्त संबंधी मामलों का निराकरण ई-कोर्ट के मध्यम से किया जाता है। इसी तरह से विवादग्रस्त मामलों की पंजी में आपत्तियों का निराकरण, आबादी स्थलों का निपटारा, भूमि सुधार ऋण अधिनियम के अधीन ऋण, कॉलोनी निर्माण, कराने वालों की रजिस्ट्री, बकाया राजस्व वसूली, जन सामान्य के भू-राजस्व संहिता के अधीन मामले सहित अन्य विविध राजस्व मामलों का निराकरण ई-कोर्ट के जरिये किया जाता है।

NEET Result 2020 करें चेक –https://ntaneet.nic.in/ntaneet/welcome.aspx

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close