Chhattisgarh NewsUncategorizedछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ न्यूजरायपुर
Trending

अब एम-वाहन ऐप से होगा गाड़ियों का फोटो फिटनेस और क्यूआर कोड

www.media24media.com

परिहवन मंत्री मोहम्मद अकबर ने बताया कि वाहनों की फिटनेस को अधिक पारदर्शी बनाने के लिए 1 मार्च से प्रदेश भर में एम-वाहन नामक एप शुरू किया गया है। ऐप के माध्यम से रसीद में दिया क्यूआर कोड स्कैन करने से गाड़ी की समस्त जानकारी उपलब्ध हो जाएगी। ऐप से फिटनेस करने लिए गाड़ी का फोटो एम-वाहन ऐप से खींचना पड़ेगा, ऐप के द्वारा फोटो के साथ गाड़ी का लोकेशन भी दिख जाएगा। जिसे मुख्यालय में बैठे अधिकारी भी देख सकेंगे।

पढ़ें:- यातायात सड़क सुरक्षा के सभी नियमों का पालन करने की अपील, अपन रद्दा : मददगार साबित

इसके तहत फिटनेस के लिए आने वाले वाहनों का फिटनेस टेस्ट के बाद फोटो ऐप में अपलोड करनी पड़ेगी, इसलिए अब परिवहन कार्यालय आने वाले वाहनों का ही फिटनेस हो पाएगा। इसके साथ ही परिवहन विभाग से मिलने वाली रसीद पर क्यूआर कोड भी शुरू किया गया है।

क्यूआर कोड को स्कैन

क्यूआर कोड को स्कैन करने से वाहन का पूरा खाका मिल जाएगा। परिवहन विभाग द्वारा एम-वाहन नामक ऐप की पूरे राज्य में 01 मार्च से शुरू कर दिया गया है।

प्रतिदिन फिटनेस जांच कराने पहुंचती है 800 गाड़ियां

बता दें कि राज्य में कुल 60 लाख छोटी-बड़ी गाड़ियां पंजीकृत हैं। रायपुर आरटीओ कार्यालय में परिवहन कार्यालय में एक दिन में 50 गाड़ियां और प्रदेश भर में कुल 800 गाड़ियां प्रतिदिन फिटनेस की जांच कराने पहुंचती हैं। वर्तमान में गाड़ियों का फिटनेस कर्मचारियों द्वारा मैन्यूअल किया जाता है।

पढ़ें:- राज्यपाल ने मीडिया24मीडिया की पत्रिका ‘अपन रद्दा’ का किया विमोचन

प्रदेश में एक मार्च से एम-वाहन नामक एप के शुरू होने से फिटनेस की जांच कर रहे अधिकारी द्वारा जांच समय गाड़ी की फोटो एम-वाहन नामक ऐप से खिंचा जाएगा। एम-वाहन ऐप से फोटो खींचते ही फोटो खींचने वाले जगह का जीओ टैगिंग भी हो जाएगा और मैप में लोकेशन का कोऑर्डिनेट भी आ जाएगा। फिटनेस की जांच कर रहे अधिकारी अगर जांच केंद्र से 500 मीटर दूर हो जाएगा तो ऐप तुरंत काम करना बंद कर देगा।

बिना गाड़ी आए ही फिटनेस की जांच

इससे जांच अधिकारी अब जांच के दौरान हेराफेरी नहीं कर पाएंगे। इसके साथ ही परिवहन विभाग को अक्सर शिकायत मिलती है कि बिना गाड़ी आए ही फिटनेस हो गया है। छोटी मालवाहक गाड़ियां बड़ा डाला बनवाकर फिटनेस करा लेती हैं। इन सब शिकायतों का अब समाधान आसानी और पारदर्शिता से हो सकेगा।

पढ़ें:- सड़क सुरक्षा माह का समापन : उत्कृष्ट योगदान देने वालों का हुआ सम्मान, मीडिया24मीडिया की पत्रिका ‘अपन रद्दा’ का हुआ विमोचन

आयुक्त परिवहन विभाग द्वारा प्रदेश भर के जिलों के आरटीओ को फिटनेस के नियमों का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं। अगर गाड़ी का फिटनेस सहीं तरीके से होगा तो सड़क हादसे भी कम होंगे और जान-माल की हानि भी नहीं होगी। एम-वाहन एप के शुरू होने से निश्चित तौर से परिवहन विभाग द्वारा फिटनेस प्रमाण पत्र जारी करने के कार्य प्रणाली में सकारात्मक परिवर्तन आएगा और सड़क सुरक्षा में बढ़ावा मिलेगा।

क्यूआर कोड स्कैन करने पर गाड़ी की दिख जाएगी कुंडली

परिवहन विभाग द्वारा एक मार्च से एम-वाहन एप के साथ ही क्यूआर कोड भी शुरू किया गया है। परिवहन विभाग द्वारा जारी होने वाली रसीद पर क्यूआर कोड रहेगा। एम-वाहन नामक ऐप से QR कोड को स्कैन करने पर वाहन की पूरी कुंडली दिख जाएगी। क्यूआर कोड के शुरू करने से अब फिटनेस टेस्ट कराने जाने वालों को भी राहत मिलेगी, क्योंकि अब उनको परिवहन कार्यालय जाकर डाटा एंट्री नहीं करानी पड़ेगी। वे फिटनेस की ऑनलाइन रसीद कटाने के बाद सीधे फिटनेस करा सकेंगे। इससे उनके समय की भी बचत होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close