Chhattisgarh NewsUncategorizedछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ न्यूजबिलासपुररायपुर
Trending

बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए रेपिड रिस्पांस टीम गठित, सतर्कता बरतने के निर्देश

छत्तीसगढ़ संचालनालय पशु चिकित्सा सेवाएं द्वारा दिए गए मार्गदर्शन और कलेक्टर एस. भारतीदासन (Collector S. Bharatidasan) के निर्देश पर बर्ड फ्लू (Bird flu)फैलने की आशंका को देखते हुए रायपुर जिले में इसकी रोकथाम के लिए रायपुर के सभी विकासखंडों और रायपुर शहर के लिए रेपिड रिस्पांस टीम (RRT) गठित (Rapid response team formed to prevent bird flu) की गई है।

www.media24media.com

देश में कोरोना वायरस का कहर अभी थमा नहीं है। वहीं दूसरी तरफ बर्ड फ्लू (Bird flu) के कारण मध्यप्रदेश, राजस्थान, हिमांचल प्रदेश, पंजाब और केरल में अलर्ट की स्थिति है। वहीं छत्तीसगढ़ (Bird Flu In Chhattisgarh) संचालनालय पशु चिकित्सा सेवाएं द्वारा दिए गए मार्गदर्शन और कलेक्टर एस. भारतीदासन (Collector S. Bharatidasan) के निर्देश पर बर्ड फ्लू (Bird flu)फैलने की आशंका को देखते हुए रायपुर जिले में इसकी रोकथाम के लिए रायपुर के सभी विकासखंडों और रायपुर शहर के लिए रेपिड रिस्पांस टीम (RRT) गठित (Rapid response team for bird flu) की गई है।

बर्ड फ्लू (Bird flu)के संबंध में सतर्कता बरतने के निर्देश

पशु चिकित्सा सेवाएं के उप संचालक डॉ. डी.डी. झारिया (Dr. D.D. Jharia) ने बताया कि इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए पशुपालन विभाग द्वारा जिले के मुर्गी पालकों और व्यवसायियों को जागरूक किया जा रहा है। बर्ड फ्लू को एवियन इन्फ्लूएंजा या फाऊल प्लेग भी कहते हैं। यह H5N1 वायरस से होने वाला अतिसंक्रमण और घातक रोग है।

बर्ड फ्लू : कोरबा में 36 कबूतरों की मौत से मचा हड़कंप

बर्ड फ्लू का इन्फेक्शन (Bird Flu In Chhattisgarh) अप्रवासी पक्षियों के साथ-साथ मुर्गी, टर्की, मोर और बत्तख जैसे पक्षियों में तेजी से फैलता है। यह वायरस, संक्रमित पक्षियों के लार, नाक, आंख स्त्राव और बीट में पाया जाता है। वहीं संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने से इंसानों में भी यह रोग फैलता है। इसलिए मुर्गी पालकों को सलाह दी जाती है कि मौसमी टीकाकरण के अलावा शेड और आस-पास के क्षेत्रों को नियमित सफाई, मृत मुर्गियों और उसके अपशिष्ट के उचित निपटान से इस बीमारी से काफी हद तक बचा जा सकता है।

बर्ड फ्लू का खतरा: पक्षी विहार में रोज किया जा रहा दवा का छिड़काव

डॉ. झारिया ने बताया कि अगर सांस लेने में दिक्कत, कफ का बने रहना, सर दर्द, नाक बहना, गले में सूजन, पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना बर्ड फ्लू (Bird flu) के मुख्य लक्षण है।

इस तरह कर सकते हैं पक्षियों का बचाव

पड़ोसी राज्यों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए नागरिकों से अपील की है कि वे अपने क्षेत्र में पक्षियों के बहुतायात में असामान्य मृत्यु होने पर पास के पशु चिकित्सालय और पशु औषधालय से संपर्क करें। इस संबंध में सभी विकासखंडों के पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञों और सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारियों को क्षेत्र में कुक्कुट पक्षियों में असामान्य बीमारी या मृत्यु के संबंध में सतत निगरानी रखनें और रिर्पोटिंग करने, बीमार पक्षियों के सीरम नमूने जांच के लिए जिला रोग अन्वेषण और प्रयोगशाला में भेजने के निर्देश दिए गए है। ताकि कुक्कुट पक्षियों को बर्ड फ्लू (Bird flu) जैसे अतिसंक्रमित बीमारी के प्रकोप से बचाया जा सके।

छत्तीसगढ़ में भी अब बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी, कृषि एवं पशुपालन मंत्री ने कही ये बात…

वहीं आरंग विकासखंड की रेपिड रिस्पांस टीम में पशु चिकित्सा शल्यज्ञ जे पी धृतलहरे पशु चिकित्सालय आरंग (फोन नं – 94255-55259) के साथ-साथ डॉ. शिवागी पटनायक, डॉ. नरोत्तम चन्द्राकर रहेंगे। इसी तरह धरसींवा विकासखंड की रेपिड रिस्पांस टीम में पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ. शैलेन्द्र खरे (फोन नं – 93000-72205) , पशु चिकित्सालय धरसींवा और डॉ. अशोक कुमार पटेल रहेंगे।

अभनपुर विकासखंड की रेपिड रिस्पांस टीम

तिल्दा विकासखंड की रेपिड रिस्पांस टीम में पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ. रामस्वरूप वर्मा (फोन नं – 98264-33767), पशु चिकित्सालय तिल्दा और डॉ. विष्णु प्रसाद यादव रहेंगे। अभनपुर विकासखंड की रेपिड रिस्पांस टीम में पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ आर.के.सिंग (फोन नं – 97274-04724) पशु चिकित्सालय अभनपुर और डॉ. एच. आर ओगरे रहेंगे।

इंसानों में भी फैल सकता है बर्ड फ्लू

रायपुर शहर की रेपिड रिस्पांस टीम में पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ. संजय जैन (फोन नं – 94252-56554) जिला पशु चिकित्सालय रायपुर, डॉ. पदम जैन पशु चिकित्सालय अश्वनी नगर रायपुर डॉ. किरण चैधरी, डॉ. संजय पांडे , डॉ. रविन्द्र कुमार डहरिया और डॉ. मो. शाहिद कुरैशी रहेंगे।

रायपुर में ये रहेंगे तैनात

संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं, रायपुर डॉ. देवेन्द्र नेताम ने बताया कि RRT की अध्यक्षता पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ. संजीव राय करेंगे। उनका मोबाइल नं – 75871-57066 है। इस टीम के सदस्य सचिव पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ. विक्रम पाठक रहेंगे। उनका मोबाइल नं- 94252-02254 है। इसी तरह टीम के सदस्य के रूप में पशु चिकित्सा शल्यज्ञ डॉ. रागिनी हजारी फोन नं-90684-52342 और पशु चिकित्सा शल्यज्ञ उपासना वर्मा का फोन नं-98261-54715 रहेंगी।

बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए बिलासपुर में जिला नियंत्रण कक्ष स्थापित

पक्षियों में होने वाले संक्रामक रोग बर्ड फ्लू रोग की रोकथाम के लिए बिलासपुर (Bird Flu In Chhattisgarh) में जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। साथ ही जिला और विकासखंड स्तर पर रेपिड रिस्पांस टीम का भी गठन किया गया है।

भारत के इन राज्यों में फैल रहा है बर्ड फ्लू का खतरा, अलर्ट जारी, जानिए इसके लक्षण और बचाव

संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं बिलासपुर द्वारा स्थापित जिला नियंत्रण कक्ष में पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ डॉ.अनूप चटर्जी मोबाइल नंबर 9827166713 को जिला नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। वहीं पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ डॉ. विरेन्द्र पिल्ले मोबाइल नंबर 9406158769 को नियंत्रण कक्ष नोडल अधिकारी, डॉ. राम ओत्तलवार पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ मोबाइल नंबर 8109894585 को सदस्य, बी.एम.पांडे सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी मोबाइल नंबर 9907749406 को सदस्य, राहुल वैष्णव प्रगणक मोबाइल नंबर 7987052273 को सदस्य, अनिल कुमार यादव परिचारक मोबाइल नंबर 7828365551 को सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है।

बिलासपुर में जिला स्तरीय रेपिड रिस्पांस टीम का गठन

वहीं जिला स्तरीय रेपिड रिस्पांस टीम में डॉ.अनूप चटर्जी को नोडल अधिकारी, पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ डॉ.रामनाथ बंजारे , सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी सुरेश कुमार धुरी, सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी अजय कुमार राठौर, सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी जयंत श्रीवास्तव , सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी एल.के.खाण्डेकर और सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र के अधिकारी दूजराम यादव शामिल है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close