NATIONALघटना-दुर्घटनादेश-दुनिया
Trending

24 घंटे के अंदर 7 लोगों ने की खुदकुशी, सभी ने फंदे से लटककर लगाया मौत को गले

www.media24media.com

देश के अलग-अलग हिस्सों से आत्महत्या की घटनाएं रोजाना सामने आ रही है। वहीं दिनों दिन यह घटनाएं लगातार बढ़ती ही जा रही है। इसमें युवाओं का नाम सबसे ज्यादा सामने आ रहा है। हर रोज भागदौड़ से भरी जिंदगी में तनाव से मुक्ति पाने के लिए इंसान मौत को गले लगाकर अपनी जीवन लीला को खत्म कर रहे हैं। बता दें कि नोएडा में 24 घंटे के अंदर 7 मामले खुदखुशी के राजधानी दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर के अलग-अलग थानों से सामने आए हैं।

नोएडा में खुदकुशी के 7 मामले आने के बाद पुलिस भी सकते में है। शुरुआती जांच में पुलिस इन आत्महत्याओं का कारण सिर्फ तनाव मान रही है। नोएडा एडिशनल सीपी लव कुमार ने कहा कि 4 मामले होली वाले दिन के हैं। जबकि 3 मामले अन्य दिनों के हैं। अगर 24 घंटे के अंदर की बात करें तो 4 सुसाइड के मामले 29 मार्च होली के दिन के हैं। सभी मामलों में शव का पोस्टमार्टम कराया जा चुका है। सभी मामलों में पुलिस द्वारा जांच की जा रही है।

मानसिक तनाव बड़ी वजह

बता दें कि पहला मामला नोएडा थाना 49 क्षेत्र में स्थित अजनारा हैरीटेज सोसाइटी का है। जहां रहने वाले एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने खुदखुशी कर ली थी। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक करीब 45 साल के तबरेज खान ने मंगलवार को अपने घर पर पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। शुरुआती जांच में सामने आया कि तबरेज खान गुरुग्राम की एक कंपनी में काम करता था और इसने अपनी कंपनी के लिए कोई प्रोजेक्ट तैयार किए थे जो अस्वीकृत हो गए थे। इस वजह से वो मानसिक तनाव में था, जिसके बाद उसने आत्महत्या कर ली।

दूसरा मामला

वहीं दूसरा मामला नोएडा के थाना फेस-3 क्षेत्र में सेक्टर-119 स्थित एल्डिको आमंत्रण सोसायटी का है। जहां रहने वाली 20 वर्षीय युवती कुमारी पार्थवी चंद्रा ने बीते सोमवार की रात अपने फ्लैट में छत के पंखे से फंदा लगाकर खुदकुशी करने की कोशिश की थी। पुलिस की मानें तो उसके घरवालों ने गंभीर हालत में उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस खुदकुशी के कारण का पता लगाने के लिए मामले की जांच कर रही है।

तीसरा मामला

तीसरा मामला नोएडा थाना फेस-3 क्षेत्र के वाजिदपुर गांव का है। जहां रहने वाले वाली करीब 40 साल की गीता देवी ने बीते सोमवार की रात को अपने घर पर पंखे से लटककर जान दे दी। गीता देवी ने आत्महत्या क्यों की है। ये पता लगाने की पुलिस कोशिश कर रही है।

चौथा मामला

चौथा मामला ग्रेटर नोएडा के थाना दादरी के लुहारली गांव का है, जहां 28 साल के युवक भीम ने सुसाइड कर लिया। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। खुदकुशी के कारणों का अब तक पता नहीं चल सका है।

पांचवा मामला

पांचवा मामला नोएडा थाना सेक्टर-49 क्षेत्र के बरौला गांव का है, जहां रहने वाले 40 साल के धर्मेंद्र मिश्रा ने कथित तौर पर मानसिक तनाव के चलते पंखे से फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

छठा मामला

छठा मामला नोएडा थाना सेक्टर-20 क्षेत्र का है। जहां रहने वाले 30 साल के युवक प्रकाश हलदर ने पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस आत्महत्या के कारणों का पता लगाने में जुट गई है।

सातवां मामला

पुलिस के मुताबिक सातवां मामला नोएडा के थाना सेक्टर-49 क्षेत्र का है। जहां रहने वाले सतपाल ने कथित तौर पर मानसिक तनाव के चलते आत्महत्या कर ली। फिलहाल 24 घंटों के 7 आत्महत्या के मामले आने के बाद पुलिस भी हैरान है। तनाव के चलते कोई इतनी जल्दी और इतनी आसानी से कैसे अपनी जीवन लीला खत्म कर सकता है। पुलिस इन सभी घटनाओं के पीछे तनाव को एक बड़ा कारण मान रही है।

तनाव नहीं सह पा रहे लोग

मनोचिकित्सक डॉ अनीता शर्मा बताती हैं कि ये मानव के बीच कॉमन बीमारी है। उसके बावजूद भी हम इसे अनदेखा कर देते हैं। हम अगर परसेंटेज की बात करें तो आज कल जनसंख्या के अनुरूप है 5 प्रतिशत लोगों के बीच बीमारी मिलेगी। इसके लक्षण आदमी आसानी से पहचान सकता है। जैसे कमजोरी महसूस करना, भूख न लगना, उदास रहना किसी एक्टिविटीज में हिस्सा न लेना या समाज से दूरी बनाके रखना।

पढ़ें:- गरियाबंद में 2 अलग-अलग मामलों में 3 लोगों ने की आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस

शुरुआती तौर पर इसे अनदेखा न करके डॉक्टरों की सलाह लेनी चाहिए। अगर ऐसा कोई मानसिक रोगी नहीं करता है तो वो धीमे-धीमे इसका गंभीर रूप से शिकार होता जाता है और एक दिन वो आत्महत्या जैसे कदम उठाने के बारे में सोचने लगता है या कर लेता है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close