NATIONALन्यायपालिका

सुप्रीम कोर्ट ने 3 कृषि कानूनों को लागू करने पर लगा दी रोक

www.media24media.com

सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों (agricultural laws News) को लागू करने पर रोक लगा दी है। उच्चतम न्यायालय ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा “कोई ताकत उसे नए कृषि कानूनों (agricultural laws News) पर जारी गतिरोध को समाप्त करने के लिए समिति का गठन करने से नहीं रोक सकती और उसे समस्या का समाधान करने के लिए कानून को निलंबित करने का अधिकार है।”

साथ ही कृषि कानूनों की जांच के लिए एक समिति के गठन की बात कही है। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे ने कहा, “हम कानून को निलंबित करने के लिए तैयार हैं लेकिन अनिश्चित काल के लिए नहीं।”

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे ने कहा(agricultural laws News)

“हम एक समिति बना रहे हैं ताकि हमारे पास एक स्पष्ट तस्वीर हो। हम यह तर्क नहीं सुनना चाहते कि किसान समिति में नहीं जाएंगे। हम समस्या को हल करने के लिए देख रहे हैं। अगर आप (किसान) अनिश्चितकालीन आंदोलन करना चाहते हैं, तो आप ऐसा कर सकते हैं।” जस्टिस एएस बोपन्ना और वी रामसुब्रमण्यन के साथ ही चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने ये फैसला सुनाया है।

पढ़ें : दिल्ली में ‘बर्ड फ्लू’ की पुष्टि, भोपाल प्रयोगशाला में भेजे गए सभी 8 नमूनों में संक्रमण

सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस ने कहा “हम कानूनों की वैधता के बारे में चिंतित हैं और विरोध से प्रभावित नागरिकों की जीवन और संपत्ति की रक्षा के बारे में भी। हम अपने पास मौजूद शक्तियों के अनुसार समस्या को हल करने की कोशिश कर रहे हैं। हमारे पास शक्तियों में से एक है कि हम कानून को निलंबित करें और एक समिति बनाएं।

किसानों की तरफ से बहस करने वाले चारो वकील गैर हाजिर

किसानों की तरफ से सोमवार को सुनवाई में हाजिर हुए चारो वकील आज गैर हाजिर हैं. इपर चीफ जस्टिस ने कहा, “चारों वकील कहां हैं, जो कल तमाम किसान संगठनों कि ओर से पेश हुए थे”

पढ़ें : विरूष्का के घर गूंजी नन्हीं किलकारी, अभिनेत्री ने बेटी को दिया जन्म

कानून का समर्थन कर रहे वकील साल्वे ने कहा कि यह चिंता कि विषय कि है कि 400 किसान संगठन की ओर से पेश हुए 4 वरिष्ठ वकील आज सुनवाई में नहीं आए। दुष्यंत दवे, एच एस फुल्का, प्रशांत भूषण और कॉलिन गोंसॉलविस आज मौजूद नहीं हैं।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close