नई तकनीक

Vaccine कब और किसे लगाई जाएगी, करोड़ों लोगों की हुई पहचान

www.media24media.com

नई दिल्ली : कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine news update) आने से पहले भारत में प्रायरिटी ग्रुप तय हो गया है. पहले फेज में 31 करोड़ लोगों को वैक्सीन (Corona vaccine) लगाई जाएगी. इनमें हेल्थकेयर वर्कर्स, पुलिस, 50 साल से ज्यादा उम्र के प्रायरिटी ग्रुप मेंबर और हाई रिस्क ग्रुप के युवा भी शामिल रहेंगे. सरकार ने यह भी तय किया है कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका (Oxford-AstraZeneca) की वैक्सीन के दो डोज के ट्रायल्स से जो शुरुआती डेटा में दो फुल-शॉट से जो नतीजे आए हैं, उन पर ही विचार किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : –Farmers Protest : किसानों का हल्लाबोल जारी, बुराड़ी जाने से इनकार

वैक्सीन (Corona vaccine) लगाने का ब्लूप्रिंट तैयार प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर के. विजय राघवन के मुताबिक डॉ. वीके पॉल के नेतृत्व वाली नेशनल वैक्सीन कमेटी ने ब्लूप्रिंट तैयार कर लिया है कि किसे सबसे पहले वैक्सीन लगाई जाएगी. उन्होंने विज्ञान मंत्रालय और द कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री की एक मीटिंग में बताया कि 31 करोड़ लोगों की पहचान कर ली गई है, जिन्हें मार्च से मई के बीच में वैक्सीन लगाई जाएगी.

विजयराघवन ने कहा- हमारे देश में एक करोड़ हेल्थ वर्कर्स, राज्यों और केंद्र सरकार की पुलिस, आर्म्ड फोर्सेस, होमगार्ड्स, सिविल डिफेंस के 2 करोड़, 50 वर्ष से ज्यादा उम्र के प्रायरिटी ग्रुप के 26 करोड़ मेंबर्स और 50 वर्ष से कम उम्र के हाई रिस्क ग्रुप के एक करोड़ मेंबर्स को सबसे पहले वैक्सीन लगाई जाएगी.

यह भी पढ़ें : –विद्या बालन ने मंत्री के साथ डिनर से किया इनकार तो शूटिंग में आई बाधा

कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड के फेज-3

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन कह चुके हैं कि 2021 की पहली तिमाही से वैक्सीन (Corona vaccine news update) लगाना शुरू होगा. 25 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने की तैयारी है. जुलाई तक 40-50 करोड़ डोज उपलब्ध हो जाएंगे. ऑक्सफोर्ड का कौन-सा डेटा मानेगा भारत? ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजेनेका के कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड के फेज-3 या अंतिम फेज के ट्रायल्स के नतीजे आ गए हैं.

दो फुल डोज देने पर एफिकेसी 62% रही और जब एक हाफ और एक फुल डोज दिया गया तो एफिकेसी 90 प्रतिशत रही. इन दो फार्मूलों में से भारत में किस डेटा पर विचार किया जाएगा, इस पर नेशनल वैक्सीन कमेटी के प्रमुख डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि रेगुलेटर्स डेटा की जांच कर रहे हैं, जो भी फैसला होगा, वह वैज्ञानिक आधार पर होगा.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close